Posts

Showing posts from June, 2022

BIOGRAPHY MAJOR SANDEEP UNNIKRISHNAN

Image
  Biography of Sandeep Unnikrishnan in Hindi Image भारतीय थल सेना के जाबाज़ सैनिक और देशभक्त संदीप उन्नीकृष्णन ने 1999 से 2008 तक मेजर के पद पर कार्य करते हुए देश के लिए शहीद हो गए। इन दिनों उनकी आने वाली बायोपिक फिल्म “Major” चारों ओर चर्चा का विषय बनी हुई है और खूब सुर्खियां बटोर रही है। आइए जानते हैं Biography of Sandeep Unnikrishnan in Hindi के बारे में पूरी जानकारी, जिसके अंतर्गत हमने संदीप उन्नीकृष्णन का जन्म, परिवार, शिक्षा, करियर और उनकी देशभक्ति के साथ-साथ मौत की वजह का कारण के बारे में बात करने वाले हैं। संदीप उन्नीकृष्णन का जन्म : संदीप उन्नीकृष्णन का जन्म 15 मार्च 1977 को केरल के कोझीकोड में हुआ था।  संदीप उन्नीकृष्णन की शिक्षा : संदीप उन्नीकृष्णन ने अपनी स्कूली शिक्षा द फ्रैंक एंथोनी पब्लिक स्कूल, बैंगलोर से प्राप्त की थी। वह स्कूली दिनों से ही भारतीय आर्मी में शामिल होने का सपना देखते थे और अपनी मेहनत एवं लगन से उन्होंने यह सपना पूरा कर दिखाया। इसके बाद उन्होंने साइंस स्ट्रीम से बैचलर की डिग्री हासिल की। संदीप उन्नीकृष्णन का परिवार : संदीप उन्नीकृष्णन बेंगलोर में रहने वा

KUTUBMINAR KA SUCH

Image
  Qutub Minar देश की राजधानी दिल्ली के महरौली इलाके में स्थित कुतुबमीनार आज दिल्ली की शान है। कुतुबमीनार को यूनेस्को द्वारा “वर्ल्ड हेरिटेज साइट” का भी दर्जा मिल चुका है। क़ुतुबमीनार का निर्माण लाल और हल्के पीले रंग के बलुआ पत्थर से हुआ है। दिल्ली के इतिहास में कुतुब मीनार का नाम जितना पुराना है , कुतुब मीनार का इतिहास ( History of Qutub Minar ) भी बहुत ही है प्राचीन है , जिससे कई रोचक तथ्य जुड़े हुए हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको कुतुब मीनार का इतिहास से जुड़े कई ऐसे जानकारी देने वाले हैं, जिसके बारे में काफी कम लोग जानते हैं।    कुतुबमीनार का निर्माण कब हुआ था? History of Qutub Minar के अंतर्गत आने वाली जानकारियों के अंतर्गत सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न उठता है Qutub Minar kab banaa tha , तो आपको बता दें कि कुतुब मीनार का निर्माण ( construction of Qutub Minar ) दिल्ली के पहले मुस्लिम बादशाह कुतुबुद्दीन ऐबक ( Qutubuddin Aibak ) ने 1199 ईसवी में शुरू कराया था। ऐबक ने कुतुब मीनार के ग्राउंड और पहले फ्लोर का ही निर्माण कराया था। बाद में उनके दामाद और उत्तराधिकारी इल्तुतमिश ने इसमें तीन