डेस्कटॉप और लैपटॉप में क्या फर्क होता है। आम भाषा में समझिये

Laptop Computer VS Desktop Computer

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बताना चाहते है की आखिरकार लैपटॉप और डेस्कटॉप में क्या अंतर होता है।  लेकिन लेख शुरू होने से पहले इसी प्रकार की ज्ञान से भरपूर जानकारी जानने के लिए सबसे पहले हमारे ब्लॉग को सेव करे। हमारे ख्याल से हर किसी ने अपने जीवन में लैपटॉप और डेस्कटॉप को एक बार तो जरूर देखा होगा और यहाँ तक की बच्चो ने प्रोजेक्ट वर्क बनाने के लिए दोनों का ही इस्तेमाल किया होगा। 

 लेकिन आज की तारीख में आप सभी को विस्तार में बताने वाले है की आखिरकार डेस्कटॉप और लैपटॉप में क्या फर्क होता है। डेस्कटॉप काफी हद तक लैपटॉप के ही समान होता है। हमारे देश में हर दिन काम को आसान बनाने के लिए नए नए अविष्कार होते रहते है। आपके ज्ञान के लिए बताना चाहते है की कंप्यूटर का निर्माण 19वी शताब्दी में किया गया था। यह दुनिया का सबसे बड़ा अविष्कार था क्योकि इस अविष्कार के मदद से ही आज आप हमारा लेख पड़ पा रहे है। 

 चार्ल्स बैबेज द्वारा लैपटॉप का अविष्कार किया गया था। इसके बाद से लगातार कंप्यूटर में तेजी से बदलाव आते चले गए। शुरुवाती कंप्यूटर का साइज काफी बड़ा हुआ करता था लेकिन अब समय बदलते बदलते आज ये हमारे बैग में और हमारे दिमाग में समा गया है। लेकिन अब आपको बताने का समय चुका है की आखिरकार लैपटॉप और डेस्कटॉप में क्या फर्क या फिर अंतर होता है। 

 डेस्कटॉप और लैपटॉप में क्या फर्क होता है

 दोनों ही एक जैसे होते है लेकिन फिर भी दोनों में जमीन आसमान का फर्क होता है जिसके बारे में आज हम आप सभी को बताने वाले है। 

 

1. डेस्कटॉप ज्यादा पोर्टेबल नहीं होता है वही लैपटॉप संपूर्ण तरीके से पोर्टेबल होता है।

 

2. डेस्कटॉप में हमें काफी ज्यादा स्टोरेज देखने को मिलती है वही हमें लैपटॉप में डेस्कटॉप के मुकाबले कम स्टोरेज देखने को मिलती है।

 

3. डेस्कटॉप में हमें ज्यादा एक्सटर्नल कॉम्पोनेन्ट देखने को मिलते है वही दूसरी तरफ लैपटॉप में सभी कॉम्पोनेन्ट लैपटॉप के अंदर समाये होते है। 

 

4. लैपटॉप बैटरी पर काम करता है वही डेस्कटॉप में इस प्रकार की सुविधा उपलब्ध नहीं है।

 

5. डेस्कटॉप को इनस्टॉल करने के लिए ज्यादा स्पेस की आव्यशकता होती है वही लैपटॉप का इस्तेमाल आप बड़े ही आसानी से कर सकते है। 

 

6. डेस्कटॉप पर आम तौर पर बाहरी घटक होते है जैसे की मॉनिटर, यूपीएस, CPU , और कीबोर्ड। वही दूसरी तरफ लैपटॉप में बिल्ट इन touchpad और कीबोर्ड होते है। 

 

7. डेस्कटॉप पर काम करने से पहले आपको काफी कुछ स्टेप फॉलो करने पड़ते है वही लैपटॉप फ्रेंडली होता है और बस कुछ ही मिंटो में लैपटॉप पर आप अपना जरुरी कार्य शुरू कर सकते है। 



अगर हम आम भाषा में फर्क समझने का प्रयास करे तो एक सरल भाषा में आप लैपटॉप को यात्रा के समय या फिर ऑफिस जाते समय आराम से लेकर जा सकते है। वही दूसरी तरफ डेस्कटॉप में आज तक ऐसा इतिहास में संभव नहीं हो पाया है। अगर ले जाने की कोशिश भी की जाये तो इसमें आपका समय और पैसा दोनों ही काफी ज्यादा खर्च हो जाता है। लैपटॉप में स्टोरेज बढ़ाने का विकल्प बहुत ही कम होता है लेकिन आप डेस्कटॉप में अपने कार्य अनुसार स्टोरेज को बड़ा सकते है। अगर आपका डेस्कटॉप ख़राब हो जाता है तो ऐसे में कॉल करके सर्विस इंजीनियर को लोकेशन पर बुलाया जाता है।  लेकिन लैपटॉप को आप आसानी से सर्विस सेंटर पर ले जा सकते है।


 

Comments

Popular Posts

BEST PLACES FOR VISIT IN INDIA

कोरोना से मुकाबला

दशहरा अथवा विजयदशमी

MERRY CHRISTMAS AND HAPPY NEW YEAR

SMALL MODULAR KITCHEN DESIGN

Omicron- The COVID variant

Republic Day of India

HOW TO COPE With ANXIETY

Child CARE

योग must